Literature

Is your sunscreen doing more harm than good?

September 21, 2019

–Written by Shreiyashi Panjla BBA LLB The earth’s atmosphere, blocks the harmful UV radiations of the sun, but most of it penetrates through it. The pronounced issue of the ozone layer depletion, moreover adds to the further thinning of our atmosphere’s natural protection from the sun’s harmful UV radiation. Which can cause redness, ageing, wrinkling […]

Read More

Article 370- A ticking bomb!

September 21, 2019

–Written By Prapti SharmaBA LLB (Hons.) USLLS The moonlit rays from the silvery plate,Of the pendant throws some numbers on;The towering wall at the border of state,Three – Seven – zero, so on. The starry child looks upon,The scarred warrior in armour plate;Broken, harried, lied to,With a gifted pendant round his nape. “Oh Kaashmir! My […]

Read More

Daryaganj book market shutdown: a threat to the legacy

September 21, 2019

–Written By Prashant Kumar Law Faculty Bhagat Singh was reading “State and Revolution” by Vladimir Lenin, while he was asked for getting hanged, he asked executioners to wait as “A revolutionary is talking to another revolutionary”. After some time, he kept the book and said: ” Let us go”. Bhagat Singh was an ardent reader […]

Read More

मैंने जीवन को बदलते देखा है…

September 16, 2019

–Written By अमीषा दुबे जीवन मैंने बदलते देखा है,खुदको मैंने संभलते देखा है।  खिल – खिलाता वो सूरज,हर शाम मैंने ढलते देखा है। लोगों को आते जाते देखा है,कुछ को साथ निभाते देखा है।  मुसीबतों में लाचारी देखी है,हर रोग, हर बीमारी देखी है। अटूट रिश्ते मायूब देखें हैं,अजनबियों की दिलदारी देखी हैं। खुदको बेचारी […]

Read More

HINDI, MORE THAN JUST A LANGUAGE!!!

September 14, 2019

–Written By Raghav Agarwal,1st year BBA LLB जन-जन की भाषा है हिंदीभारत की आशा है हिंदी……जिसने पूरे देश को जोड़े रखा हैवो मजबूत धागा है हिंद ……हिन्दुस्तान की गौरवगाथा है हिंदीएकता की अनुपम परम्परा है हिंदी…जिसके बिना हिन्द थम जाएऐसी जीवनरेखा है हिंदी…जिसने काल को जीत लिया हैऐसी कालजयी भाषा है हिंदी…सरल शब्दों में कहा […]

Read More

पांच “पी” के साथ विद्यार्थी परिषद ने अपना घोषणा पत्र जारी किया

September 10, 2019

–Written By अर्जुन खजूरिया बीटेक छात्र उधमपुर, जम्मू कश्मीर दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव के नजदीक आते ही सभी छात्र संगठन अपनी अपनी तैयारियों के साथ चुनावी मैदान में उतर चुके हैं इसी कड़ी में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने भी अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है । इस बार विद्यार्थी परिषद पांच ‘पी’ […]

Read More

मैंने रिश्तों को बदलते देखा है
आदमी को हैवान बनते देखा है

September 10, 2019

–Written By Srishti Sharma (दहर) दो रोटी के लिए भरी दोपहरी में झुलसते इंसान को देखा है बंद आँखों में सिमटे किसी के मरते ख्वाब को देखा है रात को चांदनी का मोल भाव करते देखा है लगाता हैं कीमत कौड़ियों की चाँद को दाग़ पर ग़ुमान करते देखा है बिकते जिस्म हैं रेशमो में […]

Read More

Vasudhaiva Kutumbkam

September 2, 2019

Vasudhaiva Kutumbakam is one of the most powerful phrases in Sanskrit which is the signifier of unity, peace and oneness. The phrase means that the world is one family. We all are familiar with this message in the Indian context that how being different from one and another, there lies an essence of shared essence […]

Read More

गुरु पूर्णिमा की अवधारणा व विशेषता

August 15, 2019

— Written By Natbar Rai सरल शब्दों में आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहते हैं. भारतवर्ष में यह पर्व श्रद्धा पूर्वक मानते हैं. ‘गु’ का अर्थ – अंधकार या अज्ञान तथा ‘रु’ का अर्थ – प्रकाश या ज्ञान है. गुरु हम सब को प्रकाशित करते हैं. गुरु परम्परा भारत में […]

Read More

What’s Next for Jammu and Kashmir?

August 15, 2019

— Written By CV Srikar Article 370 was like the old furniture in one’s house: It was of no use; the furniture occupies unnecessary space; but you are lazy enough not to think of it and throw it away. Article 370 was the filter that kept equality, justice and peace away from Jammu and Kashmir. […]

Read More

Independence Day and Individual freedom

August 15, 2019

— Written By Chandan Shubham Imprisoned in a gold cage or unconditional freedom! If these two options are in front, what will you choose?  Freedom, of course! The fundamental need of human life and a birthright as believed and professed by Lokmanya Tilak. Freedom to dream and freedom to fulfill them. Independent individuals make an […]

Read More

जीवन के नाम पत्र

June 1, 2019

हालांकि, यह शीर्षक मैंने स्वयं ही चुना है, पंडित दीनदयाल जी ने 26 वर्ष कि आयु में एक पत्र अपने मामा को लिखा था, और दूसरे अपने मामा के बेटे यानि भाई बनवारी के नाम l यह दोनों पत्र तो व्यक्तियो को ही सूचित थे, लेकिन इनमें जीवन्तता कि सुगंध और किरण मुझे मिलती है […]

Read More