Category: Academics

Academics related coverage forms an integral part of the Campus Chronicle. It is common point that in order to understand an issue and to think upon it, it is important to understand the background of the issue. This background of the issues can be found in various subjects in the form of theories, case studies, articles, discussions etc. We strive to cover an issue in an easy-to-understand and lucid manner. Economics, politics, law, sociology, history etc. form the basis of our content and the list is inexhaustible.

छठ पूजा

बिहार के लिए महापर्व छठ पूजा एक ऐतिहासिक पर्व है जिसकी चर्चा रिग वेद, रामायण और महभारत जैसे सास्त्रों में भी मिलती है। आस्था, उमंग और सादगी का संगम छठ पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष में मनाया जाता है। छठ पर्व सूर्य की उपासना का पर्व है और सूर्य […]

अथ श्री भारत कथा

भारत कहानी प्रधान देश है,जो भारतीय भाषाओं को निरंतर समृद्ध करतीं हैं। भारत में सर्वाधिक भाषाएँ (भिन्न बोलियों को न जोड़ें तो भी) प्रचलन में हैं, उससे कहीं अधिक विस्तृत भारत का कहानी संग्रह है।गद्य श्रेणी के निबंधो, प्रतिवेदन, भाष्यों, लेखों, व्यंग्यों, अध्ययन लेखों से इतर सही अर्थों में भाषा को समृद्ध कहानी ही करती है। […]

कहानी कूड़े की

कहाँ से आता ,कहाँ को जाता, किसका कूड़ा?किसका कूड़ा? तेरा कूड़ा,तेरा कूड़ा, कोई न कहता मेरा कूड़ा दाएँ कूड़ा-बाएँ कूड़ा , नुक्कड़ और गलियों का कूड़ा, हाय रे! कूड़ा! हाय रे! कूड़ा! कूड़े पर मक्खियों का डेरा , मच्छरों ने भी डाला घेरा , गड्ढों और नाली का कूड़ा, कोई […]

Identity Politics

भारत में लोकतन्त्र पहचान के हिसाब से मौसम की तरह बदलता रहता है l यदि आप हिन्दू है तो मौसम का मिजाज आप के लिए रूखा रहेगा और गैर-हिन्दू होने पर हरा-भरा । अभिव्यक्ति की आज़ादी खतरे में इसलिए नहीं है की किसी विशेष वर्ग को बोलने नहीं दिया जा […]

हेरिसन मेडिसिन पुस्तक हिंदी में, शक्य है?

(मेरा मूल लेख गुजराती में था, यह इसका हिंदी अनुवाद है. चिक्तिसा शास्त्र से तालुक न रखने वाले वाचकों की जानकारी हेतु- ‘हेरिसन मेडिसिन’ चिकत्सा-शाश्त्र की एक विश्व-विख्यात पाठ्यपुस्तक है, जिसको ‘चिकत्सा-शास्त्र की बाइबल’ की उपाधि भी प्राप्त है.)   कल्पना कीजिए, ‘चिकित्सकों की बाइबल’, ‘हेरिसन मेडिसिन’, बजाय बाइबल के, […]

Atal Chirantan Smritika

मौत की उमर क्या है? दो पल भी नही, जिन्दगी सिलसिला है,आज कल की न्हीI.                                                                                      -श्री अतल बिहारी वाजपेयी   Late Shri Atal Bihari Vajpayee was a human with extra ordinary abilities and candour and an international leader, transcending all limitations to earn reverence, even from his adversaries. His contribution […]