Day: December 26, 2017

ढांचे की आत्मा

December 26, 2017

रविवार का दिन, इम्तिहान समाप्त हो चुके थे तो शाम में कुछ करने को ज्यादा था नहीं। आश्रम से आ चुके थे और सूर्य भी ढलने को आ रहा था, काफी समय हो चला था तो सोचा आज चर्च होकर आया जाए। वस्त्र बदलने की ज़रूरत थी नहीं, कुर्ता सही ही मालूम पड़ता था, अब […]

Read More